Tuesday, July 19, 2011

स्वप्न औ आग

पांच नहीं,
मेरे अवयव 
केवल  दो,

स्वप्न औ आग  
मेरी संरचना.

2 comments:

  1. बहुत ही अन्तर्मुखी पंक्तियाँ है...

    ReplyDelete
  2. jabardast hai bhai........... bilkul hi aap par aap dwara likhi kavita......

    ReplyDelete