Wednesday, July 6, 2011

ताउम्र नफरत

नफरत,  
शिद्दत से 
कर पाते हो 
तुम 
हमसे
बेपनाह मुह्हबत की 
इज़ाज़त दी हमनें 

प्यार मानती हूँ 
 नफरत में 
ताउम्र नफरत ही रखो 
हमसे... 

No comments:

Post a Comment