Monday, July 4, 2011

तुम.1.

रीढ़ से चिपक 
रहता है 
जोंक 
हरदम हरवक्त

निज रक्त पीता
मैं

हर आह में 
छिपी 
तुम 

No comments:

Post a Comment