Tuesday, June 1, 2010

संजय के लिए ghost writing करते हुए बरसों पहले लिखा था इसे .

                 तुम्हारे नख चीरते है गहरा
                 काट चुटकी खुद गाल की
                 नहीं नाप पाता मै
               जख्म की गहराई

  तुम्हारे प्रेमाभिब्यक्ति ने
 सुन्न कर दिया है
मेरा सम्बेदना तंत्र.