Thursday, November 26, 2009

man nahi manata .

 मन नहीं मानता
कि ब्रह्माण्ड से परे सिफर केवल
सिफर से भी परे सिफर केवल
 मन नहीं मानता
सिफर पर जा कर रुकती होगी दुनिया
मन चाहता है
जीवन के अंत से भी जीवन ही सुरु हो.

         २
मन नहीं मानता
भुलावा है सारा जीवन
स्नेह, प्रेम सौहार्द्य भी विलीन हो जाते है
मन नहीं मानता
एकांत में ही ब्याप्त है सारी माया
मन चाहता है
जिवानानुकुल  कोलाहल ही मूल्य हो जीवन का.

Saturday, October 31, 2009

ek din

                                                                          १.
                                                             इक दिन
                                                      जब सुबह की लाली
                                                     भूख से भयाक्रांत न हो
                                                     जबनींदआएगीनिश्चिंत                                                                                                                                                        तुम्हेआमंत्रित करूँगा
                                                           ख्वाब में .
                   
                                                     सपनों में आना तुम
                                                     जब हो स्वप्न भयमुक्त.

                                                             २
.
                                                       इक दिन
                                               जब हमारी हंसी
                                               मुंह न बिराये
                                               क्रंदन फैला चारो ओर
                                               न स्वागते हमारी खुशी
                                               हम तुम खुश होंगे सदा को.

                                               ख़ुशी जब महके फिजा में
                                               हम बांधेगे निज सुख की गठरी.

Wednesday, October 21, 2009

अकेलापन

        १.
      
बंद दराज़ से निकल
छा जाता है ,                                           
धुंधले अंधियारे सा
घेर लेता है 
अकेलापन.

२.

 स्याह 
मन का फैलाता हुआ 
चुप चाप पैठ जाता  है 
मन पर छाया
अकेलापन.
                  
३.
                             
साथ तुमको लिए चलता है 
अकेले नहीं आता
अकेलापन.

Tuesday, October 20, 2009

loktantra

एक राजा था
एक रानी थी.

राजा से राजे हुए
बढ़ी वंश की बेल
बेलो पर छितरा गए
 हम जन सकल सकेल.

एक राजा था
एक रानी थी
राज पाट मनमाना था
जमी धौंश मनमानी थी

राजा बढा, बढ़ गयी रानी
भारत भर अब भरता पानी

राजा से राजे हुए
जनतंत्र लाया तेल
बांध के गठरी निज अस्मत की
हम है रहे धकेल.

बोलो भारत माता की जय
बोलो जवाहर लाल  की जय

Wednesday, October 14, 2009

is diwali

                                                         raushani :-2.

बहुत दिनों बाद / चंद रोज पहले
देखा मैंने जुगनुओ  की कतार
जुगनुओ को देख याद नहीं रहता विज्ञान
कतार सीधी होने की नसीहत
जुगनुओ के गुच्छ भी लगते है कतार.

जुगनुओ की रौशनी में देखा मैंने गाँव
गाँव में उसी दिन मैंने  चाही दिवाली
दिवाली तक रुक नहीं पाया गाँव.
 रौशनी की सीधी कतार
[रौशनी केवल सीधी चलती है
 मै केवल सीधा चलता हु ]
संग लाया हूँ मै
 इस दिवाली याद करूँगा गाँव
इस दिवाली रौशन करूँगा खुद को.

is diwali

                                                           रौशनी:-१.

घुप्प निर्वात से
जिसे कह देते है हम अँधेरा
छन कर आती है तरंग

अंधेरो से गुजर कर आती है रौशनी

रौशनी का खुद नहीं है आधार
अँधेरा रहता है कायम.
रौशनी उजाला देती है पात्र  को
रौशनी के बिना पात्र सहता है अँधेरा
पात्र से टकरा कर
पात्र में समां कर
रौशनी बिखेर देती है उजाला.

रौशनी को चाहिए पात्र
इस दिवाली
रौशनी को देता हु मै अपना आधार.

Sunday, October 11, 2009

mai tumhe chahata hu:- 3.

मै चलता रहा हूँ
मै कहता रहा हूँ

मेरे चलने से बोझिल हो गयी धरती
मेरे कहने से बासी हो गया दिन

मै चाहता हूँ रहू हल्का
मै चाहता हूँ रहू  ताज़ा

मै तुम्हे चाहता हूँ

mai tumhe chahata hu:- 2.

तुम हरीतिमा लाती हो दूब की
तुम आद्रता लाती हो ओस की
तुम लाती हो ख्वाबो की रेल
तुम लाती हो गुनगुनी नींद

मै घास पर सो जाना चाहता हूँ
 मै ओस कणों से भीग जाना चाहता हूँ
मै नींद भरा ख्वाब चाहता हूँ
मै तुम्हे  चाहता हूँ

mai tumhe chahata hu:- 1.

तुम्हारे लिए टूट पड़ता है सागर
किनारे विलीन हो जाते है अक्सर
रेत ही रेत पर बांधता मै मंसूबे
मंसूबो  की खातिर तुम्हे चाहता हूँ

Monday, September 21, 2009

संजय की कविता और मेरा जवाब

प्रेम आदमी को निकम्मा ही नही कवि भी बना देता है।
संजय ने भी भावी पत्नी के प्यार में लिख डाली है कविता

प्रस्तुत है

" लम्हा लम्हा सोचता है /

लम्हा लम्हा चाहता है/

लम्हा लम्हा कहता है/

लम्हे लम्हे में तुम होती/
लम्हे लम्हे में तुम कहती/
लमे लम्हे में तुम हसती/

लम्हा लम्हा कहता है

हर लम्हे में में होता/
हर लम्हे में तुम होती/
लम्हे लम्हे में हम होते/

हर लमहा हमसे होता/
हर लमही यही कहता है/"[ सौजन्य से - संजय पाण्डेय ०९४७३२०९४४७]

पहले सोचा था केवल संजय को कहने दू
पर दिल कहा मानता है -
"तुक है/
तुम तक पहुच जाने में/
तुकांत है तुम तक पहुच जाना मेरा/

तुक से तुकांत तक के सफर /
तुक रहता है, तुक के चुक जाने तक
मेरे मिट जाने तक
तेरे खो जाने तक।

तुकांत है/ तुम तक पहुच जाना मेरा
तेरा मेरा , मेरा तेरा हो जाना "












Wednesday, September 16, 2009

na thi hamari kismat ki visale yaar hota

visale yaar to tab hota janab jab kismat hoti /
mana kismat to hoti hi hai/ honi hi chahiye/
to bhi visale yaar ka hona na hona to batayega ki
kismat se apaki laagi kitani hai..
aap kismat ki bajaye jaye aur kismat aapaki lagaye jaye/
tab bhi aap kismat se kare fariyad ki/
ek visale yaar hota.

kismat mana udarata me dhani nikale/
...[are kismat ke baap ka kya jata hai]
par isase yah to nahihoga ki aap bhi udar ho jaye/
to udar kismat aapako kya din dikha sakati hai.
din me chand/ dopahar me chand/
chand to dikh jaye par aftab ke age mahtab ki kadra kise
din ke ujale me bhi na sujhegi aapako chand ki chandani
murkh man ko to chahiye hota amavasya ka chand ya purnima ki raat ka syah
khoj ke layee badi upamaye
dub gaya mahtab
dikha na chand
dubi kismat bid gayi/

chand dikha ya dikhi[ yadi grammer permitt kare]
par chhah lakh kilometer dur/
dakh jay rat ki mahak
rajanigandha/
yaar mera rajanigandha/
man paagal paagal vichara hota/

dikh jata yadi chaand.

kabhi aapne kismat ki lagayi/kabhi kismat ne aap ki baja di/
BABA GALIB.
NA THI HAAMARI KISMAT KI VISALE YAAR HOTA

Tuesday, September 15, 2009

DUKH HI JIVAN KI KATHA RAHI

dukh hi jivan ki katha rahi
matalab

matlab/ dukh raha/dukh se bhi pahale jivan tha
jivan ki ek kahani thi

jivan tha/jivan ki ek kahani thi
dukh tha/kahani thi/dukh kahani me tha
kahani ka dukh jivan tak pasar gaya

kahani ka dukh jivan ko dukh deta hai
jivan hai/smriti hai/smriti nahi hai/jivan hai
smriti jivan me hai/jivan smriti me nahi hai

katha hai/smriti hai/smriti me katha hai
katha ki smriti jivan me hai jarur

smriti sechhalaka dukh sarabor kar deta hai katha ko
smriti lati hai dukh

smriti ho 'saroj' ki ya swapna ki
smriti sahejati hai
dukh ki katha,katha ka dukh

dukh se prem banata hai atmahanta.

apako dukh se prem hai/
apako katha se prem hai/
apako smriti se prem hai/
apako prem hai in sabase/
aap kar nahi sakate tarpan/
aap abhisapta hai 'nirala' hone ko

'mahakavi' apako banana hi padega nirala