Friday, June 24, 2011

hamne


हमने ओढ़ी पहले पहल 
उदासी, 
बाद 
आदत में कर शुमार  
ओढ़े रहती है हमें 
उदासी .


2 comments:

  1. good one...par ek sawaal hai....aap aajkal sad mood ki kavitaayein hi jyada likh rahe hain..koi khaas kaaran???

    ReplyDelete
  2. हर तरफ़ ऐतराज़ होता है
    मैं अगर रौशनी में आता हूँ

    एक बाज़ू उखड़ गया जबसे
    और ज़्यादा वज़न उठाता हूँ
    --- dushyant kumaar

    ReplyDelete