Tuesday, September 17, 2013

बंद हैं, दरवाज़े

१. 

खटखटा तो दूँ, 
दरवाज़ा 
तेरा, खुदा  
या खुद का। 
बंद हैं, दरवाज़े 
हम तीनो के। 

२. 

एक ही, सांकल 
छूटना है 
हमें।  
बस मौत आर पार है। 

३. 

तहखानो के 
खुले दरवाज़े,
तमाम ज़िन्न कैद जिनमें। 
बंद कर रखा है,
तहखानों को,
खुद के अन्दर। 





6 comments:

  1. ab ye toh khule aam chori hai .. sahityik chori .. aapne mera theme aur idea dono churaa liye ..

    ReplyDelete
  2. ha ha ha....ab itna bhi nhi... lijiye aapke post ka link yhi de de rha hu
    http://lifewithpenandpapers.blogspot.in/2012/02/blog-post.html?spref=fb

    ReplyDelete
    Replies
    1. :) :) :) .. I think it shd b called idea exchange between the center and state ..

      Delete
  3. बेहतरीन अभिवयक्ति.....

    ReplyDelete