Friday, May 27, 2011

मैं औ तुम

१.

नहीं पता है
नाराज़ किससे हूँ
खुद से ; खुदा से; या तुमसे
नहीं पता है
खतावार कौन

२.

तुम नहीं !
मै नहीं !

दोनों ही
गल्त नहीं
अलग अलग
हमारी सुब्ह
होती क्यूँ है

No comments:

Post a Comment