Tuesday, May 17, 2011

समय

१-

ढल गया
ओस कतरन-सा 
समय 
हो संघनित
हो गया है ख़त्म
बिना छाप छोड़े अपनी

२-
समय  का एकायाम
इंतेज़ार
समय से परे 
मिलाप !

३-
रेल मुसाफिर सा
स्थिर, फिर भी विस्थापित
अक्सर आउटर पर खड़ा 
इंतज़ार बारी का
भागते पेड़ 
खिड़की से परे
वस्तुतः खड़े है वही
जैसे 
समय / गतिहीन सदा  


1 comment: