Monday, June 17, 2013

मैं, सो नहीं पाता॥

१. 

मेरी खिड़की से 
बहुत दूर 
नज़र आता है 
चाँद । 
अपनी हद से 
परे 
मैं,
जा नहीं  पाता  ॥   
                                          
२. 

रात और बढ़ जाती है 
जगा 
देख , मुझे । 
बंद आँखों भी, 
मैं, 
सो नहीं पाता॥  
                                                                      
३.

बेतरह  
लगती है,  भूख 
देख  रसोई  । 
भटक गया हूँ ,
इतना, घर 
मैं,
पहुँच नहीं पाता ॥                         

No comments:

Post a Comment