Tuesday, August 30, 2011

ज़िन्दगी औ गम ........

रात आई भी तो 
क्या सौगात हुई ,
दिन को ख़त्म हुए 
अरसा हुआ अब तो !

ख़ुशी की उब से 
बचना चाहा,
ज़िन्दगी औ गम 
बने साथी ..........

4 comments: