Thursday, August 4, 2011

ज़िन्दगी डायरी कर देखें,

ज़िन्दगी
डायरी कर देखें,
उदास सारे पन्ने
कोरी पूरी

तुमसे पहले खाली 
तुम्हारे बाद 
केवल सन्नाटा. 

धुली इस बारिश   
तुम्हारे रहते लिखी 
चंद राहें.

3 comments:

  1. kuchh kathin sa hai aapki rachanaon ko samajhana...
    thode se sabdo me bahut kuchh samaaya hota hai...

    ReplyDelete
  2. यह मेरी अक्षमता है जो कविता समझ के घेरे में समा नहीं पाती..........तिस पर भी तारीफ का बहुत बहुत आदर ............

    ReplyDelete
  3. ये आपकी अक्षमता नहीं , खाशियत है आप गागर में सागर भरने की विधा जानते है. मोती निकलने के लिए सागर में डूबना पड़ता है.
    जो ये रचनाये नहीं समझ सकते निश्चय ही उनमे अध्ययन की कमी है. like me.

    ReplyDelete