Wednesday, August 3, 2011

ख़ुशी याद की मुहताज नहीं.

गम 
केवल, 
यादों का होना.

ख़ुशी 
याद की मुहताज नहीं.

ज़िन्दगी 
गुज़रती 
याद की ट्रेन तरह 


यादों का होना 
गम 
केवल .

2 comments:

  1. Kuchh adhuri si lagi...
    Par bahut khubsurat...

    ReplyDelete
  2. ख़ुशी
    याद की मुहताज नहीं.....yaadein haesha khushi lekar aayein aisa zaroori nahi..

    ReplyDelete