Wednesday, August 14, 2013

मेरी, उमर का ही हो गया है देश..

१. 

आज, 
बेतरह याद आती है 
जलेबी।
अगस्त पंद्रह और जलेबी 
एक ही थे 
बचपन में। 

देश,
भी अब जलेबी लगता। 
समझने में कठिन 
प्रिय पर, मेरा। 

२. 

मेरी,
उमर का ही हो गया है देश। 
पता है,
दिन अच्छे बीत गये। 

३. 

सरेंडर,
कर दिया है 
देश मेरे,
मैंने भी। 



2 comments:

  1. प्यारी कविता लिखी है..

    ReplyDelete
  2. bechara desh .. jaise taise raam bharose din beet gaye achhe bhi aur bure bhi .. har generation ne apne samay mein change laane ke daave kiye aur poore bhi kiye .. lekin 15 august ko jalebi nahin laddoo milte the school mein aur sarkari daftar mein toh wo bhi nahin :(

    ReplyDelete