Sunday, December 21, 2014

हक़ कोई मुझे सवालात का ?
जवाब नहीं कोई 
पास मेरे। 

रस्म ज़िन्दगी निभाने की ?
मौत इर्द गिर्द 
पास मेरे। 


No comments:

Post a Comment