Friday, October 4, 2013

बेरंग, रंग स्थाई

१. 

एक ताल है,
उदासी की भी।
मौत भी  
एक धुन है। 

२. 

बिखर जाना,
एक कला है।
बेरंग,
रंग स्थाई। 

३. 

पहचान गहरी,
एक छलावा। 
एक विराम है,
ख़त्म हो जाना।  
 


2 comments:

  1. वाह... बहुत सुन्दर और गहरी कृति

    ReplyDelete
  2. भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    ReplyDelete